हरनंदी भाग के परिवार प्रबोधन कार्यक्रम में सास-बहुओ ने अपने अनुभव कथन सुनाएं

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn

Pariwar Prabodhan Karyakram, घर याने केवल इमारत, आश्रयस्थान, उपहार गृह, भोजनालय या विश्राम धाम नहीं है। घर याने वहां वास करने वालो को उत्तम बनाने वाला एक संस्कार केंद्र है । बड़ो की बातें सुनते हुए, उनका आचरण, देख-सुन, बच्चे स्वयं कई आदते लगा लेते हुए, प्रयोग करते हुए, संवर्धित होने का संस्कार केंद्र है, और इन सब के लिए सास -बहु का आपसी सम्बंध अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। ये विचार रखे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हरनंदी भाग के द्धारा आयोजित परिवार प्रबोधन के कार्यक्रम में आई बहनो ने ।

rss pariwar prabodhan 1

आदर्श सास-बहु के रिश्ते माँ-बेटी के रिश्ते के कहीं बढ़ कर होते है, “मेरी सास ने मुझे बेटी से काम नहीं समझाया, जहाँ मेरे आगे बढ़ने में प्रोत्साहित किया वही दूसरी और मुझसे गलती होने पर मुझे समझाया” ये कथन थे कविता बहन के जो अपनी सास के साथ आई थी।

pariwar prabodhan 2

इस कार्यक्रम में 80 परिवारों से लगभग 300 लोगो ने भाग लिया जिसमे 46 जोड़ियाँ सास-बहु की आयी थी। कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री मति उर्मिला मुदग्ल (पूर्व पार्षद) ने भी अपने विचार रखें।

parivar prabodhan rss

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मेरठ प्रान्त के कुटुम्ब प्रबोधन प्रमुख श्री पृथ्वी सिंह जी ने सभी को संबोधित करते हुए आदर्श सास बहु के संबंध पर प्रकाश डाला ।

pariwar prabodhan rss

कार्यक्रम में मा. भाग संघचालक श्री संजय जी, महानगर कुटुंब प्रबोधन प्रमुख श्री सन्देश जी, महानगर प्रचारक श्री प्रवीर जी, भाग कुटुंब प्रबोधन प्रमुख प्रमुख श्री शिव प्रताप जी मुख्य रूप उपस्थित रहे। लाजपत नगर के मा. संघचालक श्री परमेश्वर जी का मंच-संचालन सराहनीय रहा।

Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn